Tuesday, August 31, 2010

गए वो हर कसम उतार गए

मेरे सजदे न कुछ गुज़ार गए
गए वो हर कसम उतार गए

चाँद अपनी हथेली पर रखा
हम जब भी जिस्म के पार गए

उम्र गुजरी जो रंग छुपाने में
करके हमको दाग़दार गए

किस्मत लकीरें न मिट पायीं
दूर तक रोते भी ज़ार ज़ार गए

बाग़ की कलियाँ खिलेंगी कैसे
बागबान जिसके हो फरार गए

अपनी हस्ती पे था गरूर हमें
तेरी एक ही नज़र में हार गए

अधुरा सा सपना आधी सी जाँ
गए वो भी कर तार तार गए

ना मंजिल ना कोई हमराही
गए हर राह बेकरार गए

क्यूँ इंतज़ार है उनका 'महक'
वो जो दिल से हमें विसार गए

5 comments:

  1. क्या आपने हिंदी ब्लॉग संकलक हमारीवाणी पर अपना ब्लॉग पंजीकृत किया है?

    अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें.
    हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  3. वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा


    आपको और आपके परिवार को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  4. ਜੇਹੜੇ ਦਿਨ ਦਾ ਵਿਛਡ ਗਯਾ ਤੂ, ਨੀ ਮੈਂ ਕਾਖਾ ਵਾਂਗੂ ਰੁਲ ਗਯੀ...
    ਏਕ ਮਹਿਯਾ ਤੇਰੀ ਯਾਦ ਨਾ ਭੁਲਦੀ ਬਾਕੀ ਹਰ ਸ਼ੇ ਜਾਗ ਦੀ ਭੁਲ ਗਯੀ!
    ਸਾਨੂ ਭੁਲ ਗਯੀ ਖੁਦਾਈ ਚੰਨਾ ਸਾਰੀ, ਤੇਰੇ ਨੀ ਖਯਾਲ ਭੁਲਦੇ!
    आपकी कविता पढ़ के, नुसरत याद आये.... और सोचा पंजाबी पर भी हाथ साफ़ कर लूं.
    आशीष
    --

    ReplyDelete
  5. अपनी हस्ती पे था गुरूर हमें। तेरी एक ही नज़र में हार गये।
    ख़ूबसूरत शे"र। मक्ता में वो हमें विसार गये "विसार" अन्य भाषाओं में चलन में होगा शायद ,मगर हिन्दी में सामान्यत:"बिसार" प्रचलन में है।

    ReplyDelete