Tuesday, April 13, 2010

एक अपनी जिंदगी दे

ख़ुशी दे या ग़मी दे
पर यूँ ना उदासी दे
सीने में कुछ अरमा दे
और टूटने का सामां दे
दिल में कोई दर्द दे
ऐसी ना बेबसी दे


किसी का तू मिलन दे
किसी का विछरना दे
मन तडपाती याद दे
खाली ना त्रिष्णगी दे


कोई सपना जो ख़ुशी दे
या किसी बहाने अश्क दे
एक पराया अजनबी दे
उसकी नज़र खाली सी दे


दुःख का कोई नाम दे
कोई तो इलज़ाम दे
मेरा जुर्म तो बता दे
ऐसे तो न सजा दे


बेबात ना घुटन दे
जी को ना जलन दे
दे चाहे ग़म भरी  दे
एक अपनी जिंदगी दे
ख़ुशी दे या ग़मी दे
पर यूँ ना उदासी दे

2 comments:

  1. एहसास की यह अभिव्यक्ति बहुत खूब

    ReplyDelete
  2. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    ReplyDelete